Coming soon!

Book Preview

ख़लिश خلش

है यह ख़लिश क्यों
पूछ चश्मे दिल से
क्या यही नज़ारा देखता तू
बचपन से हर ख़्वाब में